Eye yoga: स्वास्थ्य आँख के लिए योग

eye yoga

आंखों की अच्छी सेहत-

आंखों शरीर के सबसे संवेदनशील अंगों में से एक हैं। इनकी नियमित देखभाल बहुत जरूरी है। उम्र के बढ़ते रहने के साथ आंखों की रोशनी में कमी एक आम समस्या है।

हम अपनी नज़रों को नज़रअंदाज़ नहीं कर सकते, पर आज की लाइफस्टाइल में समय व उम्र से पहले ही आंखों की रोशनी कमज़ोर होने लगी है ।

ऐसे में ज़रूरत है आंखों से जुड़ी सही जानकारी, कुछ योगा, आँख के लिए योग व सही खान-पान की, ताकि हमारी आंखे जीवन भर हमारा साथ निभा पाएं ।

  • आजकल की दिनचर्या का बहुत ज्यादा असर आंखों पर पड़ता है। दिनभर मोबाइल और कंप्यूटर पर काम करने की वजह से नजर का कमजोर होना, आंखों से पानी आना, सिर भारी होना और इसके साथ आंखों में जलन जैसी परेशानियों का होना आम बात है।

आज के समय में लगभग 35% जनसँख्या निकट दृष्टिदोष या दूर दृष्टिदोष की विभिन्न अवस्थाओं से पीड़ित है।दरअसल आखों के आस-पास की मांसपेशियों की कसावट या लचीलापन ही आंखों की सेहत को प्रभावित करता है।

आंख के चारों तरफ की मांसपेशियां अगर कसी हुई हैं तो यह स्वस्थ आंखों की निशानी है। आंखों में इस तरह का स्वास्थ्य बनाए रखने के लिए जरूरी है कि हम नियमित रूप से आंखो का एक्सरसाइज करते रहें ।

आँख के लिए योग-

करने से आँखों की मांशपेशियों से सम्बंधित विभिन्न विकार जैसे निकट दृष्टिदोष व दूर दृष्टिदोष को दूर करता हैं।
इनके नियमित अभ्यास करने से आँखों की कार्यप्रणाली अधिकतम रूप से सुधार हो जाता है ।

★ दोनों हथेलियों को आपस में तेजी से रगड़ें थोडी देर लगातार रगड़ते रहें  हथेलियों के गर्म होने पर इनसे आंखों को ढंकें । 5 मिनट तक इसी तरह रहें और गहरी सांसें लें ।
रोज़ाना यह एक्सरसाइज़ कुछ मिनटों तक ज़रूर करें ।इससे न स़िर्फ आंखों का स्ट्रेस दूर होगा, बल्कि दिमाग़ के साथ-साथ पूरा शरीर भी रिलैक्स होगा । साथ ही इससे आंखों की रोशनी भी तेज़ होगी ।

★एक दीवार के सामने खड़े हो जाएं । ध्यान पूर्वक कल्पना करें कि दीवार पर एक बड़ा-सा अंक 8 बना हुआ है ।पहले कुछ मिनट तक अंक पर 8 आकार बनाते हुए ऊपर से नीचे देखें और फिर नीचे से ऊपर ।

★ अपने हाथ के अंगूठे को चेहरे से 10 इंच की दूरी पर रखें । सामने 10-20 फीट की दूरी पर किसी चीज़ पर फोकस करें । अब पहले अंगूठे को देखें, फिर 10-20 फीट दूर उस चीज़ पर नजर को ले जाएं । इस दौरान गहरी सांसें लेते रहें ।

★ आंखों को पहले 10 बार क्लॉकवाइज़ और 10 बार एंटी-क्लॉकवाइज़ घुमाएं । आंखों की बेहतर रोशनी के लिए यह एक बढ़िया एक्सरसाइज़ है ।

★आंखों से चारों ओर देखें। एक बार ऊपर फिर नीचे फिर दांए और बांए। इस एक्सरसाइज को करते हुए हल्की सांस लेते रहें। इसके अलावा गर्दन को एक सीध में रखते हुए एक बार ऊपर और एक बार नीचे की ओर देखे। इस तरह से ये कसरत करीब दस से बारह बार करें।

★सुबह के समय हरी घास पर चलना आंखों के लिए फायदेमंद होता है। खास तौर से जब घास पर ओस जमी हो। कुछ समय घास पर चहलकदमी के लिए भी जरूर निकालें।

आंखों के लिए आहार -:

दूध, गाजर, पपीता, आंवला, आम, कच्चा नारियल, घी, मक्खन, अंजीर तथा गूलर का पर्याप्त सेवन करें। गाजर का एक कप और पालक के दो कप रस मिला कर दिन में 2-3 बार पिएं। हरी सब्जियां जैसे पालक, पत्ता गोभी, लौकी, चौलाई तथा मेथी का पर्याप्त सेवन करें।

गाय का दूध पीने से आंखों की ज्योति बढ़ती है।मुंह में पानी भर कर आंखों पर ताजे पानी के छींटें मारें।बहुत कम या बहुत तेज रोशनी में न पढ़ें। लेट कर भी न पढ़ें और न ही लेट कर टीवी देखें।अधिक तनाव एवं कब्ज से बचें।

लेखन एवं संकलन योगाचार्य पं. मिलिन्द्र त्रिपाठी  (M.Sc yoga therapy )

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top