कमर दर्द के लिए योग: कमर दर्द को जड़ से खत्म कर देंगे यह 20 योगासन

कमर-दर्द-के-लिए-योग

कमर दर्द को भारत मे नागरिक अधिक तवज्जो नही देते लेकिन अधिक समय तक कमर दर्द का बना रहना घातक हो सकता है । यह किसी गम्भीर बीमारी का संकेत भी हो सकता है । इसकी अनदेखी भारी पड़ सकती है ।क्या आपको कमर दर्द है तो जानिए कमर दर्द के लिए फायदेमंद योग

क्यों होता कमर दर्द-

अधिक दिन तक कमरदर्द होने पर आप तुरन्त डॉक्टर,योग थैरेपी विशेषज्ञ ,फिजियोथेरेपी एक्सपर्ट की सलाह अवश्य लें ।
आजकल कमर दर्द किसी भी उम्र के व्यक्ति हो सकता है,यह बेहद असहनीय होता है ।

दिनभर एक ही जगह अधिक देर तक बैठे रहना या एक ही जगह खड़े रहना , कमर पर लगी कोई चोट ,भारी वजन उठाना इसके अनेक कारण हो सकते है । अनेको बार तो कमर दर्द इतना घातक होता है कि व्यक्ति सीधा खड़ा भी नही हो पाता चल फिर भी नही पाता ।

ये भी पढ़े – Yoga For Slip Disc in hindi – स्लिप डिस्क के दर्द से राहत दिलाने वाले योग

पर्याप्त मात्रा में पोषक तत्वों की कमी भी इसका प्रमुख कारण हो सकता है जैसे कैल्शियम, विटामिन की कमी, रूमेटायड आर्थराइटिस, कशेरूकाओं की बीमारी, मांसपेशियों में खिंचाव, गर्भाशय में सूजन, बिना ट्रेनर की देखरेख के गलत एक्सरसाइज या योग करने के कारण से पीठ या कमर में दर्द हो जाता है।

रीढ़ के निचले हिस्से में सबसे अधिक दबाव होता है उठते बैठते झुकते समय भी सबसे अधिक दवाब इसी हिस्से पर पड़ता है । एक ही जगह पर एक ही पोजिशन में अधिक देर बैठने या खड़े रहने से भी रीढ़ की हड्डी के निचले हिस्से में दवाब बनता है ।

मोबाइल पर घण्टो काम करते समय अधिक देर गर्दन झुकी रहती है इसके कारण भी पीठ पर दवाब बढ़ जाता है । गलत तरीके से सोने के कारण भी यह दर्द उठ सकता है । झटके से किसी चलती गाड़ी से उतरते समय या झटके से किसी समान को उठाने से भी यह दर्द हो सकता है ।

तनाव में होने पर भी हमारे गले एवं पीठ की मांसपेशियों पर सबसे अधिक जोर पड़ता है यदि आप तनाव में है तो अनायास ही आपकी पीठ में दर्द उठता होगा आपने ऐसा अनेको बार महसूस किया होगा ।

पूरा शरीर आपसे में एक दूसरे अंगों से बेहतर तालमेल के साथ जुड़ा हुआ है किसी अन्य हिस्से में खिंचाव आने से भी पीठ में दर्द हो सकता है । पीठ दर्द होने पर किसी भी तरह का योग करने से पूर्व यह ध्यान रखिये की किसी अनुभवी ,पूर्ण प्रशिक्षित ,योग के क्षेत्र में उच्च शिक्षित स्वयं योग आसानो ने निपुण व्यक्ति के मार्गदर्शन में ही आसान करने चाहिए ।

गम्भीर बीमारी जैसे केंसर ,पैंक्रियाटाइटिस, अल्सर या ऑस्टियोमायलाइटिस इन्फेक्शन के चलते भी पीठ में तेज दर्द होता है । बढ़ती उम्र के कारण हड्डियों के कमजोर होने से भी कमर दर्द हो सकता है ।

जब भी हम कुर्सी पर बैठते है हमे इस तरह बैठना चाहिए कि हमारी पीठ को पूरा सपोर्ट मिल जाये गलत तरीके से बैठने के कारण 70% लोग कमर दर्द के मरीज बन जाते है ।

मोबाइल को नीचे गर्दन झुका कर न देखे बल्कि आंखों के सामने लगभग खड़ी पोजिशन में रखकर मोबाइल को चलाये ताकि गर्दन को न झुकाना पड़े ।

कमर दर्द को ठीक करने के लिए आसन टिप्स व सलाह-

आधुनिक टेक्नोलॉजी से लैस फिटनेस बैंड में आजकल ऐसी तकनीक का इस्तेमाल होता है कि एक घण्टे से अधिक यदि आप एक ही जगह बैठे है तो फिटनेस बैंड आपको नोटिफिकेशन भेजता है कि कृपया अपनी पोजिशन बदल लीजिये ।

  • नियमित योग (कमर दर्द के लिए योग) करने से शरीर का लचीलापन बना रहता है तो ध्यान रखिये अपने जीवन में नियमित कम से कम 60 मिनट तक योग अवश्य करें ।

घर पर यदि मन नही लगता तो किसी योग क्लास को भी ज्वाइन कर सकते है । माहौल मिलने पर ओर नियमित क्लास जाने की अनिवार्यता से हमारी दिनचर्या भी बेहतर होती है साथ ही हम मन लगाकर नियमित योग सिख भी पाते है एवं उसका अभ्यास भी कर पाते है ।

स्वयं अपने डॉक्टर न बने या इंटरनेट से देखकर दवाएं न खाए पैन किलर लेकर दर्द को टाले नही बल्कि एक्सपर्ट की सलाह लेकर ही उपचार करें ।

कमर दर्द की प्रारंभिक अवस्था में दवाओं, इलेक्ट्रिक स्टिम्यूलेशन, मेन्युअल थेरेपी, फिजियोथेरेपी, एक्यूपंचर, लेजर थेरेपी , ट्रैक्शन और लम्बर बेल्ट आदि का प्रयोग करके कमर दर्द और मांसपेशियों की जकड़न कम करने में मदद मिलती है।

अधिक समय तक इलाज न कराने से कमर दर्द का ऑपरेशन भी कराना पड़ सकता है । मोटापा भी कमर दर्द का प्रमुख कारण माना गया है ।

अपनी लम्बाई के मानक के अनुसार ही हमारा वजन हो अधिक वजन भी कमर दर्द का कारक है । अंदरूनी चोट या दवाओं के साइड इफेक्ट के कारण भी कमर दर्द हो सकता है ।

कमर दर्द के लिए योग-

कमर दर्द को जड़ से खत्म कर देंगे यह 20 योगासन

1.कटिचक्रासन
2.ताड़ासन
3.शलभासन
4.कंधरासन
5.हलासन
6.पश्चिमोत्तान आसान
7.मर्जरी आसान
8.अर्ध-मत्स्येन्द्रासन
9.अधो मुख श्वानासन
10.मर्कटासन
11.उत्तानासन
12.मकरासन
13 गरुड़ासन
14.धनुरासन
15.सेतु बंध
16.एक पाद राज कपोतासन
17.भुजंगासन
18.बालासन
19.त्रिकोणासन
20.शवासन

लेखन -: योग गुरु डॉ.मिलिन्द्र त्रिपाठी (योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा विशेषज्ञ )

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top