जानिए पेट की चर्बी कम करने का आसान योग

पेट की चर्बी कम करने का आसान योग,Reduce belly fat yoga-Home remedies

यदि पेट में चर्बी बढ़ जाये तो लोग गूगल पर Belly Fat कम करने के उपाय, पेट कम करने की Exercises , पेट कम करने का योग yoga to reduce belly fat तलाशते रहते हैं.

पेट की चर्बी कम करने के घरेलू उपाय(How to reduce Belly Fat)-

  • ऐसे में पेट कम करने के योग व घरेलू नुस्खे तलाशे जाते हैं ।वजन कम करने के लिए घरेलू उपाय यही है क‍ि आप वजन कम करने वाले आहार का सेवन करें..वजन कम करने की दवा  से दूर रहें ।
  • ज‍ितना हो सकते प्राकृतिक lose Belly Fat naturally तरीके अपनाएं ।
  • अक्सर लोग वजन कम करने के आसान तरीके तलाशते हैं । लेक‍िन इससे कोई फायदा नहीं। यहां मेहनत को आपको करनी ही होगी । यह मेहनत और डाइट का नियमित पालन करना भी अतिआवश्यक है.
  • सिर्फ कुछ दिन करने से काम नही चलने वाला । Belly fat घटाने के ल‍िए एक्सरसाइज के साथ ही weight loss डाइट पर भी ध्यान देना होगा ।वजन घटाने के लिए yoga करना बहुत ही अच्छा विकल्प है ।
  • लेक‍िन यह तभी सफल है जब आप डाइट पर भी ध्यान बराबर बनाएं रखें ।हम खाते समय पोषक तत्वों पर भी ध्यान नहीं देते। स्वाद के चक्कर में हम ऐसी चीजें खा लेते हैं, जिनमें प्रोटीन कम और कार्बस व फैट ज्यादा होता है।

पेट की चर्बी कम करने का योग व घरेलु उपाय Tips for Burn Belly Fat-

एक हद तक व्यक्ति किसी अनजान के सामने सांस को अंदर खिंच कर बात करता है । यदि कोई कह दें कि आपका पेट बहुत निकल रहा है तो व्यक्ति शर्मिंदा हो जाता है ।

पेट और कमर पर जमा जरूरत से ज्यादा चर्बी चिंता का विषय है। तब उसके दिमाग मे प्रश्न आता है कि How to reduce belly fat?

अगर आप भी लंबे समय से पेट कम करने का योग का जवाब तलाश रहे हैं तो हम आपकी तलाश को आज यहां खत्म कर देते हैं। पेट पर जमी चर्बी (बेली फेट)को हटा पाना कठि‍न है

Belly Fat चर्बी से होने वाले नुकसान-

जिसके कारण चर्बी वाला व्यक्ति हीन भावना तक से ग्रस्त हो जाता है । यह न सिर्फ दिखने में खराब लगती है, बल्कि इसके कारण थायराइड, बीपी व शुगर जैसी कई बीमारियां भी हो सकती हैं.

मोटापा अनेक बीमारियों का जनक है ।

क्यों बढती हे पेट में चर्बी-

मोटापा का एक कारण अनुवांशिक भी है यदि आपके परिवार में माता पिता को मोटापे की समस्या है तो आपको भी हो सकती है वही उम्र बढ़ने के कारण 30 साल के बाद गैस की समस्या होने से भी पेट पर चर्बी आ जाती है या तोंद निकल आती है

महिलाओं में यह समस्याएं उम्र 35-40 होने के बाद हार्मोन्स में परिवर्तन के कारण हो सकती है । मोटापे का बहुत बड़ा कारण तनाव भी है ।

तनाव के कारण रक्त में कोर्टिसोल का स्तर अधिक हो जाता है। कोर्टिसोल शरीर में वसा का स्तर बढ़ा देता है, जिससे वसा कोशिकाएं बड़ी हो जाती हैं।

आमतौर पर इस स्थिति में चर्बी पेट के आसपास ही बढ़ती है। अधिक देर बैठकर काम करने वाले लोगों को मोटापे की समस्या होना आम बात है ।

शरीर को मोटापा कम करने के लिए एक हेल्‍दी Life style के साथ-साथ संतुलित Belly Fat diet plan भी होनी जरूरी है। आप जो खाते हैं, जैसे खाते हैं, जब खाते हैं इसका पूरा असर आपके वजन पर पड़ता है ।

अक्सर गलत डाइट प्लान से आप वजन बढ़ा लेते हैं ।

पेट कम करने का योग (yoga for Belly Fat)  -:

तेज बारिश और मौसम के विपरीत होने पर पैदल घूमने जाना संभव नही होता । अनेको लोग अकेले पैदल घूमने नही जा सकते  घर के कामकाज के कारण महिलाएं घूमने जाने में असमर्थ होती है ।

शहरों में रहने वाले लोगो को बाहर घुमने जाना मतलब प्रदूषित हवा का सेवन करने के बराबर है ।   वाहनों से उड़ती धूल ओर धुंआ बहुत नुकसानकारक होता है।

कोरोना काल मे बाहर घूमने जाना ओर भी घातक हो सकता है । इसलिए इन सबके विकल्प के तौर पर योग को अपनाया जा सकता है । योग एक्सपर्ट की देखरेख में योग का अभ्यास कर जीवन भर आसानी से फिट रहा जा सकता है

घर के सभी सदस्य मिलकर भी योगा होम ट्रेनर को घर बुलाकर या online yoga class से जुड़कर भी योग सिख सकते है ।  

मोटापा कम करने के लिए डाइट चार्ट (Diet plan for Belly Fat) :-

★सुबह उठने के बाद करीब दो गिलास गुनगुना पानी पिएं, ताकि पेट साफ हो जाए। शौच से निवृत होने के बाद एक गिलास गुनगुने पानी में नींबू मिलाकर पिएं।

जिन्हें शुगर है, वो नींबू पानी में चीनी न मिलाएं और जिन्हें उच्च रक्तचाप है, वो बिना नमक के पिएं। वैज्ञानिक शोध में साबित हुआ है कि नींबू पानी पीने से वजन कम होता है।

★नाश्ता करने से 15 मिनट पहले करीब 5-6 बादाम खाएं। इन बादाम को रात भर पानी में भिगोकर रखें और सुबह छिलके उतारकर खाएं। बादाम खाने से शरीर को जरूरी पोषक तत्व मिलते हैं।

★बादाम में फाइबर होता है, जो भूख को मिटाता है। वजन कम करने के लिए ऐसा नाश्‍ता खाएं जो 250 कैलोरी के अंदर आता हो। 

इसके लिए आप इच्‍छानुसार ओट्स, दलिया, ब्राउन ब्रेड, स्‍किम मिल्‍क या पोहा आदि का सेवन कर सकते हैं। कम फैट वाले दही के साथ एक चपाती खा सकते हैं।

★सुबह 11 बजे के आसपास कोई भी मौसमी फल खा सकते हैं या फिर विभिन्न फलों की सलाद बनाकर भी खा सकते हैं।

★दोपहर के खाने में आपकी इनटेक कैलोरीज 300 से अधिक नहीं होनी चाहिए। खाने से पहले सब्जियों की सलाद जरूर खाएं। सलाद खाने से शरीर को अतिरिक्त फाइबर मिलता है।

★इसके बाद एक या दो रोटी और साथ में मिक्स सब्जी ले सकते हैं। ऐसे में आप लंच के दौरान वेज सूप, ब्राउन राइस, दाल, आधा कप स्‍टीम वेजिटेबल राइस, मल्‍टीग्रेन चपाती के साथ कोई हरी सब्‍जी या दाल खा सकते हैं।

सब्‍जियों को कम तेल में ही पकाएं और वाइट ब्रेड से बचें।

★शाम को जब 6 बजे के करीब जोरों की भूख लगे तब आप कोई फल, ड्राई फ्रूट्स, ग्रीन टी ,एक गिलास बिना क्रीम वाला दूध पी सकते हैं। इनके अलावा, गया फिर नारियल पानी भी पी सकते हैं।

★रात के समय डिनर हमेशा हल्‍का ही होना चाहिए। रात 8 बजे के पूर्व भोजन करना आवश्यक है । आप 2 मल्‍टीग्रेन रोटियों के साथ आधा कप   सब्‍जियां खा सकते हैं।

★दिनभर के बाद अगर रात में आप सोने के पहले फैट बर्निंग ड्रिंक लेते हैं तो इससे आपका मोटापा जल्‍दी दूर होगा।शक्कर युक्त व डिब्बाबंद खाद्य पदार्थ खाने से बचें।स्टार्च युक्त खाद्य पदार्थ जैसे:- चावल, नूडल्स, पास्ता और ब्रेड। इनकी जगह ब्राउन राइस व ब्राउन ब्रेड का सेवन करना चाहिए।

तंबाकु, शराब व सिगरेट से परहेज करना चाहिए ।

लेकिन क्या केवल पैदल घूमने से आपका वजन कम होगा ?

  आज कल की आधुनिक जीवन शैली और बैठे बैठे मोबाइल कम्प्यूटर पर काम करने की आदत ने मोटापे की समस्या को बड़ा दिया है । 60 % लोग मोटापे की समस्या से परेशान है ।

जैसे ही मोटापा बढ़ता है व्यक्ति के दिमाग मे एक ही बात आती है. में मॉर्निंग ओर इवनिंग वॉक करूँगा । आज कल मोबाइल के अंदर फिटनेस एप्लिकेशन में डेली 10 हजार कदम चलने को लोग सोचते है केवल 10 हजार कदम चल लेने से मोटापा कम हो जाएगा ।

उम्र 30 वर्ष के बाद फैट सेल को कम करना इतना आसान भी नही की वो केवल घूमने से कम हो जाये ? मोटापा का अर्थ है बॉडी पर एक्स्ट्रा फैट का जमा होना । 

आप ने सुना ही होगा मोटापा अपने साथ कई बीमारियां को भी लेकर आता है । अनेकों लोग फिटनेस का मतलब ही मोटापे से मुक्ति को मानते है ।  

वजन कम करने के लिए अक्सर लोग सुबह और शाम की वॉक शुरू कर देते हैं। लेकिन घंटों पैदल चलने के बाद भी वजन कम नही होता।हेल्थ एक्सपर्ट्स के अनुसार रोजाना 30 से 45 मिनट वॉक करने से इंसान फिट रहता है।

अनेक बीमारियों में राहत भी मिलती है। लेकिन अगर आपकी बॉडी पर फैट जमा है तो केवल पैदल चल लेने भर से ही वजन कम नहीं होता। यह भी जांचा परखा सत्य है।

आपने अपने आसपास अनेक ऐसे लोग देखे होंगे जो सुबह शाम पैदल घूमते है लेकिन सालो बीत जाने के बाद भी उनका वजन कम नही होता ।  

अनेकों फिटनेस विशेषज्ञों का यह मानना है क‍ि आप अगर आप दिन में अर्थात 24 घण्टे में टोटल 10,000 कदम चल लेते हैं तो यह आपको सेहतमंद रखने में मददगार हो सकता है।

लेक‍िन एक्‍सपर्टस का मानना है कि दिन में 10,000 कदम चलना क‍िसी भी तरह से व्‍यायाम या वर्कआउट का विकल्‍प नहीं हो सकता ।  

अनेकों लोग बेहद आराम आराम से पैदल चलते है ऐसा पैदल चलना मोटापा कम करने में बिल्कुल मदद नही करेगा ।फिटनेस एक्सपर्ट्स के अनुसार तेज चलने को ब्रिस्क वॉक कहते हैं।  

ब्रिस्क वॉक से आगे जॉगिंग, और रनिंग-

 ब्रिस्क वॉक से आगे जॉगिंग, फिर रनिंगऔर उससे आगे का लेवल स्प्रिंट कहलाता है। लेकिन ध्यान रहें ब्रिस्क वॉक के पहले हल्का से वार्म अप या सूक्ष्म व्यायाम करने बेहद जरूरी है। वॉक से हाथ, घुटनों, एड़ियों और थाई पर ज्यादा सकारात्मक असर पड़ता है।  

आर्थराइटिस, सांस, दिल के मरीजों के अलावा बहुत मोटे और कमर व जोड़ों के दर्द से पीड़ित लोगों को लंबी वॉक  एकदम शुरू नहीं करनी चाहिए। पहले शरीर को लंबी वॉक के लिए तैयार करें।

धीरे-धीरे शुरुआत करें। 45 से 50 साल की उम्र में वॉक शुरू करने वाले 1 से 2 किमी से शुरुआत करें।   शुरू में छोटे छोटे टारगेट सेट करें उन्हें पूरा करते जाए । धीरे-धीरे बॉडी को ट्रेंड करें और चलने का वक्त बढ़ाएं।

सातों दिन वॉक करने से बेहतर है कि सप्ताह में किसी एक दिन शरीर को आराम दें। यह दिन sundey हो तो ओर बेहतर है । इससे बॉडी को खुद को रिफ्रेश करने का मौका मिलता है।  

सुबह और शाम तेज गति से पैदल चलना बेहतर है। इस वक्त शरीर से स्टेरॉयड हार्मोन ज्यादा निकलते हैं, जो इंसान को अच्छा महसूस कराते हैं। इसे फील गुड हार्मोन्स भी कहते है ।

पेड़-पौधों के बीच पार्क में अर्थात प्राकृतिक वातावरण में सैर करने से तनाव कम होता है।   शरीर को ज्यादा ऑक्सीजन भी मिलती है।

सड़क या गलियों में वॉक करने से बचना चाहिए क्योंकि कंक्रीट के रास्तों पर घुटनों में दर्द हो सकता है। प्रदूषण से होने वाले नुकसान के अलावा एक्सीडेंट का खतरा भी होता है।  

खाली पेट पैदल चलना बेहतर -:

 खाली पेट तेज गति से पैदल चलना बेहतर है। इससे हल्का महसूस होता है। पैदल चलने के पहले आधा गिलास जूस भी ले सकते हैं, गर्मियों में ब्रिस्क वॉक पर निकलने से पहले पानी जरूर पीएं, वरना डिहाइड्रेशन हो सकता है।  

अगर वजन कम करना चाहते हैं, तो कुछ भी खाने से परहेज करें। वॉक से पहले या उस दौरान थोड़ा पानी पी सकते हैं। गुनगुना पानी पीना बेहतर है, जिन्हें ज्यादा पसीना आता है, उन्हें साथ में पानी की बोतल लेकर जाना चाहिए।    

ब्रिस्क वॉक के हैं कई फायदे -:

 वॉक से पूरी बॉडी की कसरत हो जाती है। पाचन तंत्र में सुधार होता है।तनाव एवं  चिड़चिड़ापन कम होता है। दिमाग चुस्त-दुरुस्त रहता है।  

दिल की बीमारियों और स्ट्रोक (लकवा) का खतरा कम होता है। शरीर की हड्डियां मजबूत होती हैं। ऑस्टियोपॉरोसिस का खतरा कम होता है ।आर्थराइटिस की संभावना कम होती है।

पानी से मोटापे की चिकित्सा -:

एक अध्ययन का निष्कर्ष आया है कि वाटर थिरेपी मोटापा की समस्या हल करने में बेहद कारगर सिद्ध हुई है। सुबह उठने के बाद प्रत्येक घंटे के फ़ासले पर 2 गिलास पानी पीते रहें। इस प्रकार दिन भर में कम से कम 20 गिलास पानी पीयें।  

सुबह तांबे के पात्र में रातभर रखा पानी पिये यह ध्यान रहें कि पात्र रात भर लकड़ी के ऊपर रखा हुआ हो । इससे विजातीय एवं विषैले पदार्थ शरीर से बाहर निकलेंगे और मेटाबोलिस्म तेज होकर ज्यादा केलोरी बर्न होगी साथ ही शरीर की चर्बी कम होगी।   योग करें निरोग रहें

लेखन एवं संकलन योगाचार्य पं. मिलिन्द्र त्रिपाठी  (M.Sc yoga therapy )

2 thoughts on “जानिए पेट की चर्बी कम करने का आसान योग”

  1. Kafi badhia post hai ,aaj humne jana ki kaise pet ki charbi ko kam kar skte hai mai iss website ko share karunga apne dosto k sath kyoki ek dost ka pet nikal gya hai jaise ki uske pet me ek bacha ho , aasha hai ki wo jarur like karega anyway keep it up

    Agr hdfc bank credit card close karna ho to ye helpful ho skts hai

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top