सिरदर्द के लिए योगासन

सिरदर्द के लिए योगासन,yoga for maigraine

सिरदर्द (सरदर्द, माईग्रेन)से राहत दिलाने में मददगार योग आसान -:

अगर आप भी अक्सर सिरदर्द या माइग्रेन के असहनीय दर्द से लम्बे समय से परेशान रहते हैं और अनेकों तरह की दवाइयां खाने के बाद भी बिल्कुल आराम नहीं मिल रहा तो आप एक बार सिरदर्द के लिए योगासन योग का सहारा लेकर देखें।

आधे सिर का दुखना ओर असहनीय दर्द होना भी माईग्रेन maigraine नामक बीमारी का संकेत है । कुछ लोग सिरदर्द की दवा को अपने जीवन का हिस्सा बना चुके है ।

सिरदर्द हर एक व्यक्ति इस तकलीफ से भलीभांति परिचित है । जीवन मे कभी न कभी सिरदर्द होना एक सामान्य सी बात है । लेकिन नियमित सिरदर्द होना बेहद घातक है ।

उनके बैग में सिरदर्द की दवा हर वक्त उपलब्ध रहती है । महिलाओं द्वारा बाम लगाकर या सिर पर कपड़ा बांधकर सिरदर्द को भगाने की कोशिश करते आपने देखा ही होगा । वही पैन किलर का प्रयोग भी बहुत लोग करते है ।

सिर दर्द के इलाज में दवा से ज्यादा असरदार है योग जानिए कैसे -:

मेरे योग इंस्टीट्यूट में लगातार सिरदर्द से पीड़ित कुछ महिलाओं ने प्रवेश लिया था एक माह नियमित क्लास में आने के बाद उनके सिरदर्द में कमी आने लगी ।

तब उनका कहना था कि आश्चर्य है कि योग सिरदर्द को जड़ से खत्म कर रहा है । हम तो सोचते थे कि सिरदर्द से जीवन भर ही छुटकारा नही मिलेगा ।

उनके बताये अनुभव के बाद मेरा योग पर विश्वास और अटल हो गया कि लाइलाज बीमारियों के उपचार में योग बहुत ही लाभदायक है ।

  • योग के ऐसे कई आसन हैं जिनके जरिए आप सिरदर्द से राहत पा सकते हैं। यह आसान कठिन भी नही है । बेहद सरल एवं सही तरीके से इन्हें अपनाकर आप सिरदर्द से छुटकारा पा सकते है ।

सिर दर्द से छुटकारा दिलाने के नाम पर कई पेन किलर्स बाजार में उपलब्ध हैं, लेकिन ज्यादा दवाई खाने से भी शरीर पर बुरा प्रभाव पड़ता है। आमतौर पर हमारे देश मे सिर में दर्द की परेशानी को लोग बहुत हल्के में लेते हैं।

सिरदर्द के साथ जीवन जीने की आदत बना लेते है । उन्हें लगता है इससे छुटकारा पाना असम्भव है । लेकिन यदि आप नीचे बताये गए योगों को अपनी दैनिक दिनचर्या में शामिल करते है तो मैं पूर्ण विश्वास से कह सकता हूँ कि आप सिरदर्द से बहुत हद तक छुटकारा पा सकेंगे ।

  • इस समस्या को हल्के में लेना घातक है । कई बार ये समस्या गंभीर रूप ले लेती है। सामान्य रूप से देखा गया है कि अधिक तनाव, थकान, देर तक भूखे रहना, कम सोना ,गैस की समस्या आदि के कारण हमें सिरदर्द की परेशानी हो सकती है।
  • अगर सिर दर्द आपके जीवन का अनिवार्य हिस्सा है तो हर बार दवा खाना आपके लिए घातक साबित हो सकता है।
  • अगर आप भी सिरदर्द या माइग्रेन की जानलेवा तकलीफ से गुजर रहे हों तो रोजाना कुछ मिनटों के लिए योग का अभ्यास को अपनी दिनचर्या का अहम हिस्सा बना लें ।
  • यह आपके शरीर को आगामी माइग्रेन अटैक एवं सिरदर्द से लड़ने के लिए तैयार होने में बेहद मदद करेगा।

सिरदर्द (माइग्रेन) क्या होता हे-

माइग्रेन (Migraine) नाड़ीतंत्र की विकृति से उत्पन्न एक असहनीय एवं बेहद पीड़ादायक रोग है जिसमे बार बार सिर के आधे हिस्से में तेज सिरदर्द होता है।

यह सिर दर्द सिर के किसी एक अर्ध भाग में होता है और दो घंटे से लेकर दो दिन की अवधि तक बना रहता है रहता है। यह अवधि बढ़ भी सकती है ।

माइग्रेन के दर्द के समय अक्सर रोगी प्रकाश और शोर के प्रति अत्यधिक संवेदनशील हो जाता है। वो गुस्से में तेज आवाज वाले साउंड सिस्टम को निशाना भी बना सकता है ।

उसे रेडियो की आवाज भी डीजे की आवाज के बराबर लगती है । इसके अन्य लक्षणों में बार बार उलटी होना, जी मिचलाना तथा शारीरिक गतिविधियों के साथ दर्द का बढ़ जाना शामिल है। इसके कारण अनेक बार हाथ पैर में भयानक दर्द होता है ।

माइग्रेन के समय सिर के एक कोने में पीड़ादायक दर्द हो सकता है । यह दर्द धड़कन की तरह व्यक्ति को महसूस होता है । पूरे विश्व मे माइग्रेन के रोगियों की संख्या अस्थमा, मिर्गी व मधुमेह के रोगियों की संयुक्त सख्या से भी कई गुना अधिक है।

क्यों होता है माइग्रेन?-

  1. -ब्रेन की तंत्रिकाओं में बदलाव हो जाना ।
  2. -यह बीमारी जेनेटिक भी होती है ।
  3. -हॉर्मोनल बदलाव ,शरीर के अंदर तेजी से हॉर्मोनल का बदलाव होना ।
  4. -आर्टिफिशियल शुगर वाला भोजन
  5. -स्ट्रेस
  6. -मौसम में अत्यधिक बदलाव
  7. -कुछ ख़ास अधिक पावर की दवाइयां
  8. -नींद का अभाव
  9. -मादक पदार्थों का सेवन
बचाव -:

तनाव के साथ साथ तेज रोशनी से एवं तेज साउंड से अपने आप को दूर रखना माइग्रेन के मरीजों के लिए बेहद जरुरी है ।

योग कैसे ठीक करता हे सिर दर्द को ? –

पैरासिमपेथेटिक नर्वस सिस्टम ये आपके शरीर की पाचन शक्ति और आराम करने की प्रक्रिया एवं ऊर्जा को नियंत्रित करता है । साथ ही साथ यह हार्ट रेट कंट्रोल में रखता है ।

योग के दौरान यही सिस्टम आपका ब्लड प्रेशर भी नॉर्मल करता है । यही आपके तनाव प्रबन्धन में भी कारगर है इस लिए यह माइग्रेन में लाभदायक है ।

योगासनों के नियमित अभ्यास से माइग्रेन के आघात का असर बहुत कम हो जाता है और लगातार अभ्यास के साथ साथ कुछ ही महीनों में आप स्थायी रूप से रोग मुक्त हो सकते हैं।

लेकिन जरूरी यह है कि योग आसान को सिर्फ करना लाभदायक नही है उसे सही तरीके से करना लाभदायक है ।

सिरदर्द का एक मुख्य कारण तनाव होता है,लगातार तनाव होने के कारण सिरदर्द भी नियमित होने लगता है इसलिए आप हीट थेरेपी से लेकर मालिश, मेडिटेशन, गर्दन में स्टेचिंग, रिलैक्सेशन एक्सरसाइज आदि का सहारा ले सकते है।

yoga for maigraine –

yoga for maigraine
  • सेतु बांधासन (सेतु मुद्रा)
  • बालासन
  • मर्जरि आसन (बिल्ली की मुद्रा)-
  • पश्चिमोत्तानासन
  • पद्मासन
  • उत्तानासन
  • उष्ट्रासन
  • हस्त-पादासन
  • अधोमुखश्वानासन
  • शवासन

सिरदर्द के लिए प्राणायाम-

  • शीतकारी प्राणायाम
  • भ्रामरी
  • शीतली
  • अनुलोम-विलोम

जानिए – योग और प्रणायाम में अंतर

आयुर्वेदिक घरेलु उपाय -:

50 ग्राम सरसों के तेल में 10 ग्राम भीमसेनी कपूर को मिलाकर गर्म कर लीजिए ठंडा होने पर इसका लेप बनाकर रख लीजिए । माइग्रेन होने पर यह लेप कपाल पर लगाने से बहुत फायदा होगा ।

2.माइग्रेन की वजह से सिरदर्द होने पर अदरक का एक छोटा सा टुकड़ा दांतों के बीच दबा लें और धीरे धीरे चूसते रहें। बहुत लाभ प्राप्त होगा ।

विशेष आग्रह -:

अपने डाक्टर की सलाह के बिना कभी भी दवाइयों का सेवन बंद न करें । यह घातक हो सकता है । योग एवं चिकित्सक परामर्श दोनों ही आवश्यक है । यही कारण है कि अनेक डॉक्टर रोगों से बचने के लिए स्वयं भी योग करते है ।

योग माइग्रेन के रोग में आपकी प्रतिरोधक शक्ति को तेजी से बढाता है । लेकिन फिर भी इसका उपयोग दवाओं के विकल्प के रूप में अपनी मर्जी से नहीं करना चाहिए।

विशेषज्ञों की सलाह के बाद ही यह निर्णय करना चाहिए । योगासनों को हम किसी कुशल ,अनुभवी ,योग में मास्टर डिग्री प्राप्त प्रशिक्षक से सीखें व उनके के निर्देशन में अभ्यास करें।

यदि आपको कोई शारीरिक दुविधा है तो योगासन करने से पहले अपने डॉक्टर या योग विशेषज्ञों को अपनी चिकित्सकिय फाइल दिखाकर उनसे अवश्य संपर्क करें।

1 thought on “सिरदर्द के लिए योगासन”

  1. Yoga jivan ko shudhar sakta he kyo ki usme sabhi prakar ki shakti samahit he esliye sabhi logo yoga ko jeevan me utaar ne ki bahut badi svaskta he jisse jeevan sahi or aaram disha me chal sake or bad sake.
    Dhanyabad
    Vedprakash pathak

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top