वजन बढ़ाने के योग व व्यायाम –

वजन-बढ़ाने-के-योग व-व्यायाम

औसत से कम वजन होना भी कमजोरी की निशानी है और अनेक बीमारियों एवं शारीरिक कमजोरी की जननी भी है । वजन की कमी को योग के माध्यम से आसानी से ठीक किया जा सकता है. वजन बढ़ाने के योग व व्यायाम को जानते हे.

वजन बढ़ाने में योग व व्यायाम की भूमिका -:

यदि आप खूब शारिरिक मेहनत करते है लेकिन पर्याप्त कैलोरी नही लेते है तो आप औसत से ज्यादा दुबले हो जाएंगे । वही यदि आप अधिक कैलोरी लेते है और कम शारिरिक श्रम करते है तो आप औसत से अधिक ज्यादा वजन वाले अर्थात मोटे हो जाएंगे ।

इनका सन्तुलन जिसने समझ लिया वो ही स्वस्थ्य शरीर का मालिक होगा । दुबलेपन का बहुत बड़ा कारण है शरीर मे पोषण का अभाव होना ।

व्यक्ति पोषक तत्व गृहण करता हो पर उसके शरीर की पाचन प्रक्रिया की कमजोरी के कारण शरीर को पोषण नही मिल पाता इस कमी को योग के माध्यम से आसानी से ठीक किया जा सकता है ।

अत्यधिक दुबलेपन के पीछे अनुवांशिक ,गम्भीर बीमारी ,कुपोषण प्रमुख कारण है । स्वस्थ्य दिनचर्चा एवं सही पोषण आहार का सेवन से ही आप दुबलेपन से मुक्ति पा सकते है ।

यौगिक क्रियाएं भूख बढ़ाने में मदद करती है । जिससे बॉडी मास इंडेक्स बढ़ने में मदद मिलती है । आपका बीएमआई (BMI) 18.5 के नीचे है, तो आपको अंडरवेट माना जाएगा।


यदि शरीर को पर्याप्त पोषण न प्राप्त हो एवं पर्याप्त कैलोरी शरीर को प्राप्त नही होती है तो इसका बुरा असर रेनल , कार्डियोवैस्क्यूलर, गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल , एंडोक्राइन और सेंट्रल नर्व्स सिस्टम को उठाना पड़ता है।

ये भी पढ़िए- Weight loss:वजन कम करने के लिए diet plan एवं Yoga (diet chart)

  • दुनिया में 70 प्रतिशत आबादी जहां एक ओर मोटापे से परेशान है तो वही दूसरी ओर 20 प्रतिशत आबादी दुबलेपन से परेशान है केवल 10 प्रतिशत ही लोग ऐसे है जो स्वास्थ्य जीवन जी पा रहें है ।

मेरे योग इंस्टीट्यूट पर 10 ऐसे स्टूडेंट्स ने प्रवेश लिया जो वजन बढ़ाना चाहते थे । उनका वजन 40 किलो से 45 किलो के मध्य था वे अपना वजन बढ़ाना चाह रहे थे । उनमें से एक स्टूडेंट ने बहुत अच्छा प्रश्न पूछा कि क्या सर योग से वजन भी बढ़ सकता है ?

मेने कहा बिल्कुल योग से वजन कम भी होता है और बढ़ता भी है यथार्थ में योग वजन को संतुलित करता है लेकिन इसमें बहुत बड़ा रोल आपकी डाइट का होता है ।

योग के साथ साथ उचित डाइट का पालन करना बेहद आवश्यक है । दुबलेपन के कारण स्टेमिना बहुत निम्न स्तर पर पहुंच जाता है । वही व्यक्ति इतना कमजोर हो जाता है कि उसे दिनभर कमजोरी महसूस होती है ।

किसी कार्य मे मन नही लगता है । वजन कम होने का बड़ा कारण तनाव भी है योग तनाव प्रबंधन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है । योग आपके मेटाबोलिज्म को संतुलित करता है । योग और आहार के साथ साथ 7 से 8 घण्टे की गहरी नींद का होना भी अनिवार्य है

वजन बढ़ाने के लिए प्रमुख योग व व्यायाम-

  1. सूर्य नमस्कार
  2. भुजंगासन
  3. वज्रासन
  4. पर्वत आसन
  5. उत्तानमंडुकासन
  6. अश्व संचानासन
  7. पादहस्तासन
  8. हस्त उत्तानासन
  9. पवनमुक्तासन
  10. मत्स्यासन
  11. सर्वांगासन
  12. धनुरासन
  13. चक्रासन
  14. मर्कटासन
  15. शवासन

वजन बढ़ाने के लिए प्रमुख प्राणायाम-

  1. अनुलोम विलोम प्राणायाम
  2. कपालभाति क्रिया
  3. भस्त्रिका प्राणायाम
  4. उज्ज़ायी प्राणायाम

वजन बढ़ाने के लिए डाइट -:

नियमित रूप से 2000-2200 कैलोरी लेने से आपका वजन तेजी से बढ़ेगा । यदि आपने नियमित साथ मे योग किया है तो यह डाइट प्लान प्रतिमाह आपका वजन 2 से 3 किलो बढ़ा देगा ।

सुबह उठने के बाद गुनगुना पानी पिये

  • सुबह योग क्लास के बाद-

अंकुरित चने ,खड़े मूंग , सुबह भीगे हुए 5 बादाम , 5मुनक्का , 15 दाने मूंगफली ,10 किसमिस ,

नास्ते में मक्खन के साथ ब्रेड , कार्न फ्लेक्स,या एक प्लेट घी से भुना हुआ मीठा दलिया या 2 घी में बने पराठे का सेवन किया जा सकता है ।

नास्ते के कुछ देर बाद एक गिलास फेट सहित मीठा दूध या बादाम शेक

  • सुबह का भोजन -:

सलाद (थोड़ा सा जैतून का तेल युक्त सलाद )के साथ 3 रोटी , हरि पत्त्तेदार रेशेदार सब्जियां ,एक कटोरी दाल, दही ,चावल सप्ताह में 3 दिन पनीर की सब्जी एवं सोयाबीन की बड़ी की सब्जी खाना लाभदायक होता है ।

यदि आप सब्जियों में बदलाव करना चाहते है तो राजमे की सब्जी इसका बेहतर विकल्प है । सब्जियों में आलू का सेवन करना भी बेहतर होगा । सलाद के साथ शक्करकंद का भी उपयोग किया जा सकता है ।

आधे घण्टे बाद पानी पीना है

4 बजे ब्रेड के साथ मक्खन युक्त सैंडविच या एक सेवफल या घी में भुने हुए मखाने या 2 केले खा सकते है एवं अखरोट को भी नियमित खाया जा सकता है ।

  • रात की डाइट में-

सलाद के साथ 3 रोटी , हरि पत्त्तेदार रेशेदार सब्जियां ,एक कटोरी दाल रात में दही एवं चावल नही खाना है । राजमा ,सोयाबीन की बड़ी ,पनीर की सब्जी रात में भी अलग अलग दिन विकल्प के तौर पर इस्तेमाल किया जा सकता है ।

आधे घण्टे बाद पानी पीना है एवं टहलना है ।

  • सोने से पहले-

फैट युक्त दूध शहद मिलाकर पीना लाभदायक है ।

यदि आपको कोई बीमारी है तो डाइट प्लान डॉक्टर या विषय विशेषज्ञों की देखरेख में बनवा कर उसका पालन करें ।

लेखन -: योग गुरु डॉ.मिलिन्द्र त्रिपाठी (योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा विशेषज्ञ )

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top