Yoga For Thyroid:योग से संभव है थाइराइड का इलाज जानिए

Yoga For Thyroid, योग से संभव है थाइराइड का इलाज

Get Rid Of Thyroid-

थायाराइड के लिए योग (Yoga For Thyroid) बहुत मदद कारगर हो सकता है । योग सिर्फ छोटे रोगों को ही ठीक नही करता बल्कि गम्भीर बीमारियों में भी योग कारगर होता है ।

बस सही तरीके से एवं सही डाइट का पालन किया जाए तो रिजल्ट बहुत ही आश्चर्यजनक हो सकते है ।जिस तरह अलग अलग चिकित्सा पद्धति के डॉक्टर आपका इलाज करते है.

ठीक उसी तरह योग के विशेषज्ञ जिन्हें योगा थैरेपी का ज्ञान होता है वो आपको आपकी बीमारियों के अनुसार योग कराकर उन बीमारियों का इलाज करते है ।

मेने अनेक थाइराइड रोगियों को जो कि मेरे योग इंस्टिट्यूट पर आते है उन्हें इसके सुखद परिणाम प्राप्त करते देखा है । थाइराइड के कारण बढ़ने वाले वजन को योग के माध्यम से नियंत्रित एवं कम होते देखा है ।

डॉक्टरों द्वारा भी जिनका इलाज चल रहा है उस इलाज के साथ साथ योग को अपनाकर हर बार होने वाले आपके रूटीन टेस्ट में आप योग के परिणाम को आसानी से देख सकते है.

बशर्ते आप नियमित योग करें सही डाइट का पालन करें एवं डॉक्टरों की सलाह का अक्षरसः पालन करें । जेनेटिक रूप से जिनको थाइराइड है उन्हें योग के माध्यम से परिणाम प्राप्त होने में थोड़ा अधिक समय लगता है.

लेकिन जिन्हें गलत जीवन शैली या अन्य कारणों से थाइराइड होता है उन पर योग के माध्यम से सकारात्मक असर होता है । लेख के अंत मे दिए गए योगासन नियमित कर थायराइड से छुटकारा (Get Rid Of Thyroid) पाया जा सकता है ।

थाइराइड के लक्षण -:

अनेक लोग ऐसे होते है जिन्हें यह पता ही नही होता कि उन्हें थाइराइड है । क्योंकि ज्यादातर लोगों में थायरॉयड (Thyroid)का स्तर कम होता है.

जिसे हाइपोथायरॉयडिज्म कहते हैं। इसके लक्षण होते है.

  • अचानक मोटापा बढ़ना ,
  • सुस्त सुस्त रहना ,
  • दिमाग की कमजोरी ,
  • शरीर मे भारीपन लगना ,
  • अधिक थकावट महसूस करना ।

थाइराइड हार्मोन -:

थायरॉयड समस्याओं का सबसे ज्यादा प्रचलित कारण ऑटोइम्यून थायराइड Autoimmune thyroid रोग (AITD) हैं। जिसका बहुत बड़ा कारण है अनुवांशिकी यह रोग आपको विरासत में मिला हो ।

इस समस्या में शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली एंटीबॉडी पैदा करने लगती है। इसके कारण थायरॉयड ग्रंथियां बहुत अधिक मात्रा में हार्मोन का उत्पादन करने लगती हैं।

सामान्य भाषा में समझे तो थाइराइड ग्रंथि दो तरह के हॉर्मोन का निर्माण करती है। T3 जिसका अर्थ होता है ट्राईआयोडोथायरोनिन Triiodothyronine और T4 यानी थायरॉक्सिन Thyroxine।

जब ये दोनों हॉर्मोन असंतुलित हो जाते हैं, तो या तो वजन बढ़ने लगता है जानिए वजन कम करने के लिए योगा वजन कम होने लगता है ।

आखिर थाइराइड होता क्या है What is Thyroid -:

थायराइड गर्दन में पाई जाने वाली एक ग्रंथि है। थायरॉयड ग्लैंड लगभग तितली के आकार की होती है और गले में सामने की तरफ स्थित होती है।

यह थायरॉयड ग्लैंड की हमारे पूरे शरीर में होने वाली मेटाबॉलिक प्रक्रियाओं को पूरा करने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका होती है। विभिन्न प्रकार के थायरॉयड डिसऑर्डर शरीर को कई प्रकार से नुकसान पहुंचाते हैं।

अनेक नुकसान सामने दिखते है लेकिन आंतरिक शरीर मे इसका नुकसान बाहरी शरीर से अधिक होता है । जब थायराइड ग्रंथि (Thyroid Gland) ज्यादा थायरॉक्सिन हार्मोन को पैदा करने लगती है तो इंसान कई शारीरिक परेशानियों का शिकार हो जाता है ।

एक छोटी गलती कैसे हमें बड़ा नुकसान करती है थायराइड रोग इसी का उदाहरण है। हमारी एक गलती कई तरह की शारीरिक परेशानियों को जन्म दे देती है और थायराइड (Thyroid) भी उन्हीं में से एक है।

शारीरिक रूप से कमजोर लोगों के लिए योग ही बहुत अच्छा उपाय सिद्ध हो सकता है। आर्थिक रूप से कमजोर लोगो को योग के माध्यम से थाइराइड का वो इलाज मिल सकता है जो महंगी महंगी दवाओं से भी संभव नही है ।

थाइराइड से बचना है तो तनाव से बचे -:

हाइपोथायरॉइड​ज्म और टेंशन/स्ट्रेस/तनाव के बीच सीधा संबंध पाया जाता है। मानसिक तनाव के कारण थाइराइड होने की संभावना बढ़ जाती है ।


लेकिन कुछ योगासनों के बारे में माना जाता है कि वे शरीर में थायरॉयड्स का बेहतर सन्तुलन बना पाने में सक्षम हैं, फिर चाहें वो वजन बढ़ाने वाला थाइराइड हो या वजन कम करने वाला थाइराइड दोनों को योग से संतुलित किया जा सकता है।

अगर थायरायड का सही समय पर इलाज न किया जाए तो इससे ह्रदय रोग का खतरा बढ़ जाता है ।

क्या कहते है रिसर्च -:

नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन की मेडिकल रिसर्च NCBI में कहां गया है की 6 महीने तक नियमित रूप से योग अभ्यास करने पर कोलेस्ट्रॉल के स्तर व सीरम थायराइड स्टिम्युलेशन हॉर्मोन (टीएसएच) में सुधार हो सकता है।

साथ ही हाइपोथायरायडिज्म के रोगियों में थायरोक्सिन (एक प्रकार का थायराइड हॉर्मोन) की जरूरत को कम करने में भी मदद कर सकता है।

इससे थायराइड फंक्शन में सुधार हो सकता है । ऐसे अनेको रिसर्च में सिद्ध हो चुका है कि नियमित योग अभ्यास के परिणाम बेहद सुखद होते है ।

थाइराइड रोगियों के लिए फायदेमंद योगासन Yoga for Throid-:

  • विपरीत करनी योग
  • सर्वांगासन
  • मत्सयासन
  • हलासन
  • सलंब सर्वांगासन
  • उष्ट्रासन
  • भुजंगासन
  • सेतु बंधासन
  • मार्जरी आसन
  • जानुशीर्षासन
  • बालासन
  • धनुरासन
  • नावासन
  • अनुलोम-विलोम
  • उज्जायी प्राणायाम
  • कपालभाति

थायरॉइड रोगी के लिए डाइट प्लान Thyroid diet plan –

  • पुराना शाली चावल, सत्तू,मूंग, मसूर, अरहर, चना दाल परवल, लौकी, तोरई, करेला, प्याज, कददू, आलू, मिर्च, मशरूम, मौसमी सब्जियां, केला, एवोकाडो, अनानास, नारियल, मौसमी फल, आम, अनार, नारंगी, शकरकंद, जामुन, फालसा
  • गाय का दूध, दही, नारियल पानी, अजवाइन, ग्रीन टी, ब्राउन राइस, सूरजमुखी के बीज, काली मिर्च, बादाम, मूंगफली।
थायरॉयड होने पर आपको इनका सेवन नहीं करना हैः-
  • नया चावल, मैदा,कुलथ, उड़द, राजमा, छोले,बैंगन, नींबू, पत्तेदार सब्जियाँ, टमाटर, खट्टे अंगूर, कटहल, अरबी, अंकुरित अनाज, गाजर, सोयाबीन,मछली, पनीर, तीखा भोजन, तैलीय मसालेदार भोजन, कोल्डड्रिंक्स, फास्टफूड, जंक फ़ूड,
  • डिब्बा बंद खाद्य पदार्थ ,अचार, अधिक तेल, कोल्डड्रिंक्स, मैदे वाले पर्दाथ, शराब, फास्टफूड, सॉफ्टड्रिंक्स, जंक फ़ूड, डिब्बा बंद खाद्य पदार्थ, मांसहार सूप,कच्ची सब्जी, ब्रोकोली, पत्तागोभी, फूलगोभी, भिंडी।

लेखन -: योगाचार्य डॉ.मिलिन्द्र त्रिपाठी (योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा विशेषज्ञ

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top