yoga trainer:बिना ट्रेनर या एक्सपर्ट की सलाह के योग करना पड़ सकता है भारी

yoga trainer

योगाचार्य yoga trainer

बिना योगाचार्य yoga trainer की सलाह के मनमर्जी से वीडियो देख देख कर किये गए यह योग फायदे की जगह नुकसान पहुंचाने लगे । लोगो ने अपने शरीर को प्रयोगशाला बनाया जिसका दुष्प्रभाव आज सामने आ रहा है ।

सभी जानते है पानी पीना बहुत लाभदायक होता है । लेकिन पानी भी जरूरत से बहुत अधिक पी लेने पर हानिकारक हो जाता है योग शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक स्वास्थ्य के लिए संजीवनी बुटी की तरह है।

नियमिय योग साधना से असाध्य से असाध्य रोगों का ईलाज संभव है। नियमित रूप से योग और प्राणायाम करने वाले लोग पूर्ण स्वस्थ होने के साथ साथ अक्सर दवाओं और अस्पतालों खर्चों से स्वयं को दूर ही रखते है ।

लेकिन अति हर कार्य की बुरी होती है ।चाहे वो योग ही क्यो न हो । कोरोना काल में लॉक डाउन के दौरान अधिक समय मिलने से लोगो ने घर में सुबह शाम जब समय मिला योग करना शुरू कर दिया ।


बहुत अधिक एक्सरसाइज करने से बहुत अधिक योग करने से इम्युनिटी मजबूत होने की जगह कमजोर हो जाती है । इम्यूनिटी सिस्टम पर इसका उल्टा असर पड़ता है।

इससे शरीर की वायरस से लड़ने की क्षमता कमजोर हो जाती है और बीमार होने का खतरा बढ़ जाता है। योग एवं व्यायाम करने से मोटापे में कमी फिटनेस बढ़ाने में मदद जरूर मिलती है,

लेकिन वो भी तब जब आप ट्रेनर yoga trainer या की सलाह से एक नियत दिनचर्या के तहत योग कर रहे हों।

अक्सर लोग योग शुरू करने के लिए टीवी,वीडियो या कोई किताब पढ़ने लगते हैं, फिर अपने हिसाब से योग करने लगते है लेकिन योग हमेशा किसी एक्सपर्ट की सलाह से ही करना चाहिए।

इसके अलावा अगर आप किसी बीमारी से योग के माध्यम से छुटकारा पाना चाहते है तो भी एक्सपर्ट से सलाह लेना न भूलें। अनेक लोग कुछ ही दिन योग अभ्यास के बाद अपने आप को ज्ञाता समझ लेते है ।

लेकिन ध्यान रहें अधूरा ज्ञान हानिकारक होता है । पूर्ण ज्ञान के बिना स्वयं के शरीर के साथ या अन्य लोगो के शरीर के साथ खिलवाड़ न करें ।

yoga trainer के बिना योग क्यो गलत है -:

कुछ लोग सुबह भी ओर शाम भी योग अभ्यास करते है । यह शरीर के लिए घातक हो सकता है । स्वास्थ्य विशेषज्ञों और yoga trainer का कहना है कि अत्यधिक योगाभ्यास से शरीर के अंदर गर्मी उत्पन्न होती है,

जिससे शरीर में इलेक्ट्रोलाइट्स और सोडियम का स्तर में कमी हो जाती है। जिसके कारण चक्कर भी आने लगते है ।

लकवा का खतरा

शरीर की मांसपेशियों पर अत्यधिक दवाब डालने से लकवा का खतरा हो सकता है योगाभ्यास करते समय जरुरत से ज्यादा शरीर के लचीलेपन के विरूद्ध ज्यादा जोर दिया जाए तो शरीर की मांसपेशियां ज्यादा स्ट्रेच हो जाती हैं,

जिसके कारण शरीर के उस हिस्से में अत्यंत दर्द होने लगता है ।

इसके बाद भी लगातार उस हिस्से में खिंचाव होने से उक्त हिस्से के लकवा ग्रस्त होने की संभावना बढ़ जाती है । इसलिए एक अनुभवी योग ट्रेनर की देखरेख में ही योग करें ।

दिनभर थकान मानसिक तनाव -:

यदि ज्यादा योग करते है । तो शारीरिक थकान के साथ साथ मानसिक थकान भी होने लगती है । जिसके कारण अनेक तरह के मानसिक अवसाद व्यक्ति को घेर लेते है ।

इंजरी की संभावना बड़ जाती है –:

ज्यादा योग करने से हड्डियों में कमजोरी आने का डर होता है एवं चोट लगने की संभावना भी बड़ जाती है । योग अभ्यास के दौरान लगने वाली चोट आम नहीं होती, क्योंकि इसमें गर्दन , घुटने और कंधे जैसे अंगों पर चोट लगने की संभावना प्रबल रहती है ।

गलत तरीके से योगाभ्यास के दौरान मांसपेशियों के फटने, हर्नियेटेड डिस्क और कार्पल टनल की परेशानी भी हो सकती है ।

साइकोलॉजिकल डिसऑर्डर -:

रोज एक तरह के योग ज्यादा करने से कई बार साइकोलॉजिकल डिसऑर्डर की होने की संभावना बड़ जाती है ।
इससे शरीर पर असर पड़ना बंद हो जाता है।

एक तरह से शरीर आदि हो जाता है । एक्सपर्ट कहते है सप्ताह में एक दिन पूरी तरह आराम करना चाहिए ताकि शरीर रिफ्रेश हो सके ।

शरीर में सूजन -:

ज्यादा योग करने से मांसपेशियों में सूजन आने की संभावना भी बढ़ जाती है ।

सावधानिया-

  • वॉर्मअप बेहद जरूरी -:

शुरुआत में 15 मिनट कम से कम वॉर्मअप अवश्य करना चाहिए इसके अनेक फायदे है । शरीर को तैयार किये बिना योग करने से शरीर को बहुत नुकसान होते है ।

  • ज्यादा योग से फिटनेस बढ़ती नही घटती है -:

एक मिथक है ज्यादा योग करने से फिटनेस बढ़ेगी लेकिन ज्यादा योग करने से फिटनेस कमजोर हो जाती है ।

लेखन :- डॉ.मिलिन्द्र त्रिपाठी (योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा विशेषज्ञ )

लेखक योगा टीचर प्राइड आवार्ड से सम्मानित एवं उज्जैन योग इंस्टीट्यूट के डायरेक्टर है ।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top